Welcome

Anti Essays offers essay examples to help students with their essay writing.

Sign Up

Vishnu Prabhakar Essay

  • Submitted by: GauravSiyal
  • on October 6, 2012
  • Category: Miscellaneous
  • Length: 470 words

Open Document

Below is an essay on "Vishnu Prabhakar" from Anti Essays, your source for research papers, essays, and term paper examples.

                    विष्णु प्रभाकर                    
विष्णु प्रभाकर हिन्दी के सुप्रसिद्ध लेखक के रूप में विख्यात हुए। उनका जन्म 21 जून 1912 mai उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के गांव मीरापुर में हुआ था। उनके पिता दुर्गा प्रसाद धार्मिक विचारों वाले व्यक्ति थे और उनकी माता महादेवी पढ़ी-लिखी महिला थीं जिन्होंने अपने समय में पर्दा प्रथा का विरोध किया था। उनकी पत्नी का नाम सुशीला था।
विष्णु प्रभाकर की आरंभिक शिक्षा मीरापुर में हुई। बाद में वे अपने मामा के घर हिसार चले गये जो तब पंजाब प्रांत का हिस्सा था। घर की माली हालत ठीक नहीं होने के चलते वे आगे की पढ़ाई ठीक से नहीं कर पाए और गृहस्थी चलाने के लिए उन्हें सरकारी नौकरी करनी पड़ी, लेकिन मेधावी और लगनशील विष्णु ने पढाई जारी रखी और हिन्दी में प्रभाकर व हिन्दी भूषण की उपाधि के साथ ही संस्कृत में प्रज्ञा और अंग्रेजी में बी.ए की डिग्री प्राप्त की।
विष्णु प्रभाकर पर महात्मा गाँधी के दर्शन और सिद्धांतों का गहरा असर पड़ा। इसके चलते ही उनका रुझान कांग्रेस की तरफ हुआ और स्वतंत्रता संग्राम के महासमर में उन्होंने अपनी लेखनी का भी एक उद्देश्य बना लिया, जो आजादी के लिए सतत संघर्षरत रही।
विष्णु प्रभाकर   ने jo पहला नाटक लिखा uska shershak tha - ‘‘ हत्या के बाद’’। उनका आरंभिक नाम विष्णु दयाल था। एक संपादक ने उन्हें प्रभाकर का उपनाम रखने की सलाह दी। विष्णु प्रभाकर ने अपनी लेखनी से हिन्दी साहित्य को समृद्ध किया. उन्होंने साहित्य की सभी विधाओं में अपनी लेखनी चलाई। १९३१ में हिन्दी मिलाप में पहली कहानी ‘दीवाली के दिन’’ छपने के साथ ही उनके लेखन का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह आज आठ दशकों तक निरंतर सक्रिय है। नाथूराम शर्मा प्रेम के कहने से वे शरत चन्द्र की जीवनी ‘आवारा मसीहा’ लिखने के लिए प्रेरित हुए जिसके लिए वे शरत को जानने के लगभग सभी सभी स्रोतों, जगहों तक गए और जब यह जीवनी छपी तो साहित्य में विष्णु जी की धूम मच गयी। कहानी, उपन्यास, नाटक, एकांकी, संस्मरण, बाल साहित्य सभी विधाओं में प्रचुर साहित्य लिखने के बावजूद आवारा मसीहा उनकी पहचान का पर्याय बन गयी। आवारा मसीहा ने साहित्य में उनका मुकाम अलग ही रखा।
विष्णु प्रभाकर ने अपने संपूर्ण अंगदान करने की इच्छा व्यक्त की थी। इसीलिए उनका अंतिम संस्कार नहीं किया गया, बल्कि उनके पार्थिव शरीर को अखिल...

Show More


Citations

MLA Citation

"Vishnu Prabhakar". Anti Essays. 16 Dec. 2018

<http://parimatch-stavka7.com/free-essays/Vishnu-Prabhakar-320180.html>

APA Citation

Vishnu Prabhakar. Anti Essays. Retrieved December 16, 2018, from the World Wide Web: http://parimatch-stavka7.com/free-essays/Vishnu-Prabhakar-320180.html


Supernatural S14E08 HDTV x264-SVA[eztv] | Featured | Frontier.S02.German.DD51.DL.2160p.NetflixUHD.x264-TVS